09 August 2020

News Flash

जिंदगी जो अभी धूप है, अभी साया

श्रेष्ठ उर्दू समीक्षक डॉ. गोपीचंद नारंग म्हणतात, इफ्म्तिखमर आरिफ़ को कहने का ढंग, क्लासिकी रचाव, गहरी दर्दमंदी और भावनाओं से ओतप्रोत है, उसमें जो शक्ति

| June 27, 2015 01:01 am

श्रेष्ठ उर्दू समीक्षक डॉ. गोपीचंद नारंग म्हणतात, इफ्म्तिखमर आरिफ़ को कहने का ढंग, क्लासिकी रचाव, गहरी दर्दमंदी और भावनाओं से ओतप्रोत है, उसमें जो शक्ति विद्यमान है उस के आधार पर कहा जा सकता है कि इस आवाज की नज्में ताजा और मधुर रहेगी।

उर्दूचे ख्यातनाम शायर कैफी आजम्मी पाकिस्तानचा दौरा करून १९८० मध्ये परतले तेव्हा ते म्हणाले, ‘‘पाकिस्तान में जो सब से बडी दौलत मुझे मिली, जिस को मैं कस्टम आफिसर की नजर से बचाकर, डय़ूटी दिये बगर निकाल लाया वह पाकिस्तान की नयी शायरी और नयी आवाज है। जिस का नाम है इफ्म्तिखमर आरिफ़।’’
ग़ज़्‍ाल व नज्म या दोन्ही काव्यविधांवर असामान्य पकड असलेल्या आरिफ़ यांनी आपल्या शायरीत संस्कृती, परंपरा व धार्मिकता यांचा समतोल साधला आहे. त्यांनी भाषेचे पावित्र्य जपले असे मानले जाते. हळूहळू त्यांची शैली अनेक शायरांनी अंगीकारली. काही भारतीय शायरांवरही त्यांचा प्रभाव जाणवतो.
मं चिराग लेके हवा की जद* पे जो आ गया हूँ तो गम न कर
मं ये जानता हूँ कि मेरे हाथ पे एक हाथ जरूर हैं
हम न हुए तो कोई उफक* महताब नहीं देखेगा
ऐसी नींद उडेगी फिर कोई ख्वाब नही देखेगा
हमीं में रहते है वो लोग भी जिनके सबब
जमीं बलंद* हुई आसमाँ के होते हुए
आरिफ़ यांच्या प्रारंभिक काळात फैज अहमद फैजसारख्या जगविख्यात शायराने त्यांच्याविषयी भविष्यवाणी केली की, ‘‘किसी साहित्यकार या उस के साहित्य की कीमत, भविष्य की अपेक्षा उसी वक्त हो जानी चाहिये जब वह प्रकाश में आ जाय.. अगर वह कुछ न भी करे तो भी उन का कलाम आधुनिक साहित्य में उन्हें एक महत्त्वपूर्ण स्थान दिलवाने के लिए काफी है।’’
हे वक्तव्य आरिफ़ यांचा पहिला संग्रह ‘मेहरे-दो-नीम’ च्या प्रकाशनानंतरचे आहे. आरिफ़च्या शायरीचा दुसरा रंग पाहा.
अश्रूंचे मातृत्व ते या शब्दात विशद करतात-
हिज्र* की धूप में छाओं जैसी बात करते है
आँसू भी तो माओं जैसी बात करते हैं
वास्तव्याच्या ठिकाणाला घरपण देण्याची ही मागणी पाहा-
मेरे खुदा मुझे इतना तो मोतबर* कर दे
मं जिस मकान में रह रहा हूँ उसे घर कर दे
मित्रांसाठीचा हा एक शेर ऐका –
सदा जियें मेरे यार, कि सूरज जिन का माथा चूमे
और हवा जिन को मेरा अहवाल सुनाना भूले नां
आता मित्रतेचा विषय निघालाच आहे तर चंद शेर
मुलाहिजा हो-
मं उससे झूठ भी बोलु तो मुझसे सच बोले
मेरे मिजाज* के सब मौसमों का साथी हो
मिले तो मिल लिये, बिछडे तो याद भी न रहे
तआल्लुकात* में ऐसी रवा-रवी* भी न हो
समझ रहे है मगर बोलने का यारा नहीं
जो हमसे मिल के बिछड जाए वो हमारा नहीं
आरिफ़ यांचा जन्म २१ मार्च १९४३ ला लखनऊ येथे झाला. लखनऊ विद्यापीठातून १९६२ ला ते बी.ए. व १९६४ मध्ये एम.ए. (समाजशास्त्र) झाले. त्याच वर्षी ते पाकिस्तानला गेले. १९७७ पर्यंत पाकिस्तान रेडिओ व टी.व्ही विभागात नोकरी केली. त्यानंतर १९८० पर्यंत लंडन बी.सी.सी.आय. पब्लिक रिलेशन अ‍ॅडमिनिस्ट्रेटर होते. १९८० ते १९९० उर्दू मर्कज* लंडनचे ते प्रभारी प्रशासक होते. ही संस्था त्यांनी नावारूपास आणून साहित्यिक केंद्र म्हणून मोठी केली. १९९१ ला ते कराचीला परतले. ते अनेक संस्थांसह ‘मुक्तदरा कौमी जबान’ या विख्यात संस्थेद्वारे साहित्यसेवा करीत आहेत.
इतर शायरांप्रमाणे आरिफ़ यांचे शेर सहज उमगत नाहीत. नासिख, आतिश, दबीर, अनीस यांसारख्या लखनवी शायरांच्या परंपरेतून साकारलेली ही शायरी इस्लामिक मायथॉलॉजी व कल्चरच्या ज्ञानाची वाचकांकडून अपेक्षा करते. त्यामुळे सुबोध शेर देण्याचाच मी प्रयत्न करतोय-
अजब तरह का है मौसम कि खाक उडती है
वो दिन भी थे कि खिले थे गुलाब आँखों में
बुझते हुए दिये की लौ और भीगी आँख के बीच
कोई तो है जो ख्वाबों की निगरानी करता है
न जाने कौन सी आँखें वो ख्वाब देखेगी
वो एक ख्वाब कि हम जिसके इंतजार में हैं
ऐसा भी क्या कि उम्रभर एक ही ख्वाब देखिये? असा प्रश्न करणारे आरिफ़ एकात्मता भंगल्यावर म्हणतात-
वही है ख्वाब जिसे मिल के सब ने देखा था
अब अपने-अपने कबीलों * में बट* के देखते है
ज्ञानपीठ पुरस्कारप्राप्त अली सरदार जाफ़री म्हणतात, आरिफ़ ज्या परंपरेसवे मार्गक्रमण करीत आहेत त्यातच आजच्या युगाची श्रेष्ठ कविता विद्यमान आहे,
आरिफ़ जीवनाबद्दल म्हणतात-
ये जिंदगी जो अभी धूप है, अभी साया
हर एक आन नया दायरा* बनाती है
अन् जमाना
में एक और तरफ जा रहा हूँ ख्वाब के साथ
जमाना मुझ को लिये जा रहा है और तरफ
आरिफ़ यांचे विविध विषयांवरील शेर आता पाहू या-
दिल पागल है रोज नयी नादानी करता है
आग में आग मिलाता है फिर पानी करता है
जवाब आये न आये, सवाल उठा तो सही
फिर उस सवाल में पहलू सवाल के रख
दुआ को हाथ उठाते हुए लरजता हूँ
कभी दुआ नहीं मांगी थी माँ के होते हुए
वो क्या मंजिल, जहाँ से रास्ते आगे निकल जाए
सो अब इक सफर का सिलसिला करना पडेगा
आरिफ़ यांचे चार ग़ज़्‍ाल-काव्यसंग्रह प्रकाशित आहेत. ‘मेहरे-दो-नीम’, ‘हर्फे-वारियाब’, ‘जहाने मालूम’, ‘शहरे-इल्म के दरवाजे पर’ याव्यतिरिक्त त्यांची संपूर्ण शायरी ‘किताबे-दिल ओ दुनिया’ या नावाने प्रकाशित आहे. त्यांच्या जवळपास साऱ्या कवितांचे इंग्रजीत अनुवाद झाले असून ते ‘द ट्वेल्थ मॅन’ आणि ‘रिटर्न इन द सिजन ऑफ फिअर’या दोन संग्रहात ते समग्र काव्य अंतर्भूत आहे. आता इच्छा, अभिलाषांवरील शेर ऐका-
आरजू के एक आईने से भागे थे
कि अपने आप से डरने लगे थे
क्या खबर थी हर गली, हर रह गुजर
के मोड पर इक आइना खाना पडेगा
आरजूओं का हुजूम और ये ढलती हुई उम्र
साँस उखडती है, न जंजीरे*-हवस टूटती है
कैसी ख्वाहिश थी कि सोचो तो हंसी आती है
जैसे मं चाहूं उसी तरह बना ले मुझे कोई
वयाच्या उत्तरार्धातही असं कबुलीजवाब देणं सोपं नाही, दुर्लभ आहे. लोकोक्तीप्रमाणे प्रचलित आरिफ़ यांचा शेर ऐका-
फूल महके मेरे आंगन में सबा भी आये
तू जो आए, तो मेरे घर में खुदा भी आये
प्रेयसी, मित्र, अतिथी यापकी कुणाच्याही अनुलक्षून हा शेर नमूद करता येईल. याच ग़ज़्‍ालचा आणखी एक मनोज्ञ शेर –
मंने सौ तरह जिसे दिल में छिपाए रख्खा
लोग वो जख्म जमाने को दिखा भी आये
श्रेष्ठ उर्दू समीक्षक डॉ. गोपीचंद नारंग म्हणतात, आरिफ़ को कहने का ढंग, क्लासिकी रचाव, गहरी दर्दमंदी और भावनाओं से ओतप्रोत है, उसमें जो शक्ति विद्यमान है उस के आधार पर कहा जा सकता है कि इस आवाज की नज्में ताजा और मधुर रहेगी।
कलेच्या संदर्भात आरिफ़ फर्मावतात,
मगर चिरागे-हुनर का मोआमला है कुछ और
ये एक बार जला है तो फिर बुझेगा नहीं
त्या हुकूमशाही देशातील परिस्थितीवरील भाष्य पाहा-
तमाशा करनेवालों को खबर दी जा चुकी है
कि पर्दा कब गिरेगा, कब तमाशा खत्म होगा
रस बरसाने वाले बादल और तरफ क्यों उड जाते है?
हरी-भरी शादाब* खेतियाँ बंजर होगी तब सोचेंगे
हिरव्यागार, टवटवीत शेताचं वैराण होणं अन् एखाद्याचं अवचित ‘एक्झिट’ करणं..
अभी गया है कोई मगर यूँ लगता है
जैसे सदियाँ बीती, घर खामोश हुए
आपल्या काव्यसृजनाच्या संदर्भात आरिफम् सांगतात,
जब तक अपने आप से मिलना-जुलना था
शेर भी होते रहते थे आसानी से
जिंदगी भर की कमाई यही मिसरे दो-चार
इस कमाई पे तो इज्जत नहीं मिलने वाली
पण आरिफ़ यांना आत्मविश्वास आहे की लखनऊचे श्रेष्ठ बंडखोर ग़ज़्‍ालकार ‘यास यगाना चंगेजी’ नंतर-
ग़ज़्‍ाल बाद अज यगाना, सुर्खरू * हम से रहेगी
मुखातिब कोई भी हो गुफ्तगू हम से रहेगी
पुढे म्हणतात मी सत्याचीच बाजू मांडेन अन्यथा-
या फिर ये कलम नहीं रहेगा
मनाप्रमाणे काव्यसृजन झाले नाही ही टोचणी तरी आहेच
जैसी लगी थी दिल में आग, वैसी ग़ज़्‍ाल बनी नहीं
लफ्ज ठहर नहीं सके दर्द की तेज धार में
प्रत्येक प्रामाणिक सृजनकर्ता आपल्या सृजनाबाबत सदैव असमाधानीच असतो. अधिक चांगलं घडवता आलं असतं अशी त्यास खात्री राहत असावी. पण आरिफ़ स्वतच्या अनुषंगाने इतरांना उपदेश करतात-
और की जिक्र क्या, मीर का भी साया न हो
वो सुखन कर जो किसी और ने फर्माया न हो
अन् आरिफ़चं काव्य वाचल्यानंतर त्यांच्यावर ‘मीर तकी मीर’च नव्हे तर अन्य कोणत्याही शायराचा प्रभाव नाही हे जाणवतं.
डॉ. राम पंडित – dr.rampandit@gmail.com

लोकसत्ता आता टेलीग्रामवर आहे. आमचं चॅनेल (@Loksatta) जॉइन करण्यासाठी येथे क्लिक करा आणि ताज्या व महत्त्वाच्या बातम्या मिळवा.

First Published on June 27, 2015 1:01 am

Web Title: iftikhar arif
टॅग Poet
Next Stories
1 गच्चीवरची बाग – पुठ्ठय़ांची खोकी व सुपारीची पाने
2 संक्रमण काळातील सोबती
3 माती घडवणारे हात…
Just Now!
X